*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, August 11, 2016

अगर मै भगवान होता

अगर मै भगवान होता

अगर मै भगवान होता
लालची और फरेबी फिर ,ना कोई इंसान होता
अगर मै भगवान होता
किसी को जरूरत न होती,करे  मेरा रोज पूजन
मंजीरे और ढोल के संग ,शोर करके ,करे कीर्तन
क्योंकि हल्लागुल्ला मुझको,नहीं बिकुल भी सुहाता
शांति मुझको बड़ी प्रिय है ,शोर मेरा सर  दुखाता
मै  बड़ा नाराज होता ,चीख यदि  गुणगान होता
अगर मैं भगवान होता
लोग मेरी मूर्तियों पर ,चढाते  रहते  मिठाई
नाम ले परशाद का सब ,फिर उन्होंने ही उड़ाई
एक भी दाना, हक़ीक़त में ,न चख पाया कभी मै
किन्तु जो चढ़ती मिठाई ,अगर चट करता सभी मैं
 झिझकते सब ,चढ़ावे का ,अगर ये अंजाम होता
अगर मै भगवान होता
सुनते है भगवान रहते ,शेषशैया ,समंदर में
सर्प और पानी से लेकिन ,बहुत ही रहता हूँ डर मैं
इसलिए मैं जागता रहता,जरा भी नहीं सोता
पड़ती कोई को जरूरत,प्रकट मैं तत्काल होता
लक्ष्मीजी ने भले ही,मचाया तूफ़ान होता
अगर मै भगवान होता
सच है ये मेरी कृपा से ,लोगों के भण्डार भरते
लोग कुछ रूपये चढ़ा कर,मेरा है अपमान करते
कुछ चढाने का दे लालच,कामना दिन रात करते
मुर्ख है वो सभी ,रिश्वतखोर  जो मुझको समझते
ऐसे लोगो का कभी भी ,नहीं कोई काम होता
अगर मैं भगवान होता
लोग चोरी किया करते और नेता लूटते है
सभी शोशागिरी दिखला ,रोज मुझको पूजते है
नाम मेरा लेके कितनो की दुकाने चल रही है
टिकिट मेरे दर्शनों पर,बात मुझको खल रही है
देखता हूँ जब ये सब कुछ,मैं बहुत हैरान होता
अगर मैं भगवान होता
अगर मैं भगवान होता,आप माने या न माने
नाम पर मेरे खुली जो,बन्द करवाता  दुकाने
नाम लेकर धर्म  का जो ,रोज करवा रहे दंगे 
चक्र ऐसा चलाता कि नज़र आते ,सभी नंगे
बदल जाती मान्यताएं,खड़ा एक तूफ़ान होता
अगर मैं  भगवान होता
लोग जिम्मेदारियां अपनी मुझे क्यों सौंपते है
कभी होता कुछ बुरा तो दोष मुझ पर थोंपते है
अच्छा हो,करनी हमारी,बुरा हो तो हरी इच्छा
लोग हर दिन और हर पल ,लिया करते है परिच्छा
सभी जिम्मेदारियां लेना नहीं आसान होता
अगर मैं भगवान होता
दीनदुखियों के सभी दुःख,जो अगर मैं हर न पाता
ठेकेदारों को धरम  के ,गर उजागर  कर न पाता
लूट मेरे नाम पर जो हो रही ,ना  रोक पाता
तो भला क्या लाभ होता, मेरा बनने में विधाता
छोड़ कुर्सी,स्तिफा  दे ,तुरन्त अन्तरध्यान होता
अगर मैं भगवान होता

मदन मोहन बाहेती' घोटू '



 

No comments: