*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, August 14, 2016

मै ऑरेंज काउंटी में रहता हूँ

मै ऑरेंज काउंटी में रहता हूँ

सुबह सुबह,व्यायाम के कई आयाम
 कसरत और प्राणायाम
ठहाके मार कर खिलखिलाना
सब के संग ताली बजाना
कभी किसी का जन्मदिन मनाना
बुढ़ापे में ख़ुशी का अहसास कराना
सुबह सुबह इतने लोगों से मिलते हाथ है
कि सुहाना हो जाता प्रातः है
मन में एक विश्वास जग जाता है
कि हम साथ साथ है
ख़ास कर इस उम्र में ,जब बच्चे,
अपना अपना घर बसा कर दूर हो जाते है
तब अकेलापन दूर करने,
ये दोस्त ही तो साथ आते है
सब के साथ मिल कर ,सुबह सुबह,
जीवन में भर जाती उमंग है
ये मेरी दिनचर्या का ,एक सुहाना ढंग है 
फिर जब बड़े से स्विमिंगपूल में ,
अकेला स्नान करता हूँ
खुद को बिलगेट्स समझता हूँ
फिर मन्दिर में कर देवदर्शन
मन ख़ुशी से भर जाता  है मन 
एक तरफ स्कूल के भारी बेग से लदा ,
बस पकड़ने को भागता बचपन
दूसरी तरफ पाश्च्यात धुनों पर 'जुम्बो 'कर,
पसीना बहाता हुआ  यौवन
तो तीसरी तरफ व्यायाम और प्राणायाम
करते हुए वृद्ध जन
जीवन की इन तीनो अवस्थाओं का संगम,
एक साथ नज़र आता है
कल,आज और कल को एक साथ देख ,
आनन्द आता है 
जब सुबह इतनी सुहानी होती है ,
तो दिन भी ख़ुशी से गुजर जाता है
जहाँ आठ सौ घरों में ,बसता एक परिवार है
मिलजुल कर मनाये जाते ,सारे त्योंहार है
जरूरत पड़ने पर
सब एक दूसरे की सहायता को तत्पर
प्यार की हवाये बहती है ,
और मै भी ,इन हवाओं के साथ बहता हूँ
मुझे ख़ुशी है कि मै ऑरेंज कॉउंटी में रहता हूँ

मदन मोहन बाहेती 'घोटू'




 

No comments: