*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, August 7, 2016

जब से मइके चली गयी तुम

 जब से मइके चली गयी तुम

जब से मइके चली गयी तुम
सारा घर है गुमसुम ,गुमसुम,
मुझको ऐसा लगता हर क्षण
जैसे बदल गए हो  मौसम
ना बसन्त की खुशबू महके
ना गरमी में ,ये तन दहके
ना सरदी में होती सिहरन
ना सावन में होती रिमझिम
साँसे चुप चुप आती,जाती
आपस में किस से टकराती
ना पायल बजती खनखन
ना बाहों के बंधते  बन्धन
हुई ताड़ सी ,लम्बी रातें
मुश्किल से हम काट न पाते 
वो पल मस्ती के,मदमाते
याद करे ,रह रह विरही मन
जब मेरे संग होती तू ना
लगता सब कुछ सूना,सूना
 तेरी यादों के मरूथल में ,
मृगतृष्णित हो,भटके है मन
जब से मइके चली गई तुम
सारा घर है गुमसुम गुमसुम

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: