*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, August 11, 2016

जान निकाला नहीं करो

जान निकाला नहीं करो

बार बार जाने की कह कर ,जान निकाला नहीं करो
यूं ही प्यार के  मारे है हम,   हमको मारा  नहीं करो
अभी अभी आये बैठे हो, थोड़ा सा तो सुस्ता लो
करो प्यार की मीठी बातें ,कुछ पीयो,थोड़ा खा लो
भग्नहृदय हम ,यूं ही तोड़ा,हृदय हमारा नहीं करो
बार बार जाने को कह कर ,जान निकाला नहीं करो
मेरे पहलू में आ बैठो,थोड़ा मुझको अपनाओ
थोड़ा सा सुख मुझको दे दो,थोड़ा सा सुख तुम पाओ
तन्हाई में मेरी,अपनी, शाम गुजारा नहीं करो
बार बार जाने की कह कर ,जान निकाला नहीं करो
कभी कभी तो आते हो ,आते ही कहते जाने की
रत्ती भर भी फ़िक्र नहीं है ,तुम को इस दीवाने की
यूं ही तड़फा तड़फा कर के ,हमसे किनारा नहीं करो
बार बार जाने की कह कर,जान निकाला नहीं करो

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: