*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, August 7, 2016

दास्ताँ -चार दिन की

दास्ताँ -चार दिन की

पहला दिन
--------------
चेहरे पर चमक है
बातों में खनक है
आजाद पंछी सी ,
ख़ुशी और चहक है
कौन ऐसी ख़ुशी की,
हुई बात नयी  है
क्या बताएं यार ,
बीबी मइके गयी है
दूसरा दिन 
-------------
रोज की दिनचर्या
हुई अस्तव्यस्त है
दिखते कुछ त्रस्त पर,
कहते हम मस्त  है
मन में परेशानियां ,
कही अनकही  है
क्या कहें,दो दिन से ,
बीबी मइके गयी है
तीसरा दिन
--------------
रात,दिवस तन्हाई,
बुरी हो गयी है गत
काटने घर दौड़े ,
देवदास सी हालत
पति को अकेला यूं,
छोड़ कर सताती है
पता नहीं औरतें,
मइके क्यों जाती है
चौथा दिन
-------------
कल तक जो थे ढीले ,
आज हुए फुर्तीले
चमक रहा है चेहरा ,
 चहक रहे ,रंगीले
लगते है बेसब्रे ,
हालत ,मतवाली है
पत्नीजी ,मइके से
आज आने वाली है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'
 

No comments: