*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, June 22, 2016

मैं नारी हूँ

 मैं नारी हूँ

मैं विद्या ,संगीत,कविता ,सरस्वती का रूप ,
धन ,वैभव ,ऐष्वर्य दायिनी हूँ,मैं लक्ष्मी  हूँ
मैं ही माता ,मैं ही पत्नी ,मैं ही भगिनी हूँ,
अन्नपूर्णा ,मैं दुर्गा हूँ ,जग की जननी हूँ,
मैं ही धरा हूँ,मैं ही गंगा,मैं ही कालिंदी हूँ,
मैं रति भी हूँ,पार्वती हूँ ,और मैं काली हूँ
मैं शक्ति का रूप मगर मैं क्यों दुखियारी हूँ,
अपनी व्यथा कहूं मैं किस से,मैं तो  नारी हूँ
मातपिता के अनुशासन में बचपन कटता है,
और पति के अनुशासन में कटता यौवन है
बेटे बहू,बुढ़ापे में ,अनुशासित करते है,
क्यों नारी पर ,सदा उमर भर,रहता बंधन है
कभी भ्रूण में मारी जाती ,कभी जन्म के बाद,
कभी दहेज के खतिर मुझे जलाया जाता  है
कभी मुझे बेचा जाता है ,भरे बाजारों में ,
मुझको नोचा जाता है  ,तडफाया जाता है
वरण स्वयंबर में तो मुझको करता अर्जुन है,
पांच पति की भोग्या मुझे बनाया जाता है
भरी सभा में चीरहरण दुःशासन करता है,
जुवे में क्यों ,मुझको दाव लगाया जाता है 
ममता भरी यशोदा सौ सौ आंसूं रोती  है ,
राजपाट पा ,राजाबेटा ,उसे भुलाता है
क्यों राधा की प्रीत भुला कर ,कृश्णकन्हैया भी ,
आठ आठ पटरानी के संग ब्याह रचाता है
इंद्र,रूप धर मेरे पति का,छल करता मुझसे ,
तो पाषाणशिला बन मैं क्यों शापित होती हूँ
क्यों सिद्धार्थ ,बुद्ध बनने को,मुझे त्यागता है ,
यशोधरा मैं ,दुखियारी,जीवन भर रोती हूँ
वन में पग पग साथ निभाने वाली सीता का ,
अगर हरण कर ले रावण,क्या सीता दोषी है
राम युद्ध कर,उसे दिलाते ,मुक्ति रावण से ,
क्यों सतीत्व की उसके अग्नि परीक्षा होती है
लोकलाज के डर से मर्यादा पुरुषोत्तम भी ,
गर्भवती सीता को वन में भिजवा देते है 
रामचरितमानस में तुलसी कभी पूजते है ,
कभी ताड़ना का अधिकारी ,उसको कहते है
भातृप्रेम में लक्ष्मण ,भ्राता संग वन जाते है ,
चौदह बरस उर्मिला ,विरहन,रहती रोती  है
जीवन को गति देनेवाली ,देवी स्वरूपा की,
युगों युगों से ,फिर क्यों ऐसी,दुर्गति होती है
ऊँगली पकड़ सिखाती चलना अपने बच्चों को,
सदाचरण का पाठ पढ़ाती,पहली शिक्षक है
पति प्रेम में पतिव्रता बन ,जीती मरती है,
अनुगामिनी मात्र नहीं,वह मार्ग प्रदर्शक है
मैं  सुखदात्री,अपने पति की सच्ची साथी हूँ,
फिर क्यों दुनिया कहती मै अबला ,बेचारी हूँ
मैं शक्ति का रूप, मगर मैं क्यों दुखियारी हूँ  ,
अपनी व्यथा कहूं मैं किससे ,मैं तो नारी हूँ

मदन मोहन बाहेती'घोटू' 

No comments: