*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, June 30, 2016

बेवफा बाल

      

ये बाल बेवफा होते है 

कितना ही इनका ख्याल रखो 
कितनी ही साजसम्भाल  रखो 
कितनी ही  करो कदर इनकी 
सेवा सुश्रमा , जी भर  इनकी 
हम सर पर इन्हे चढ़ा रखते 
कोशिश कर इन्हे बड़ा रखते 
अपना ही जाया  ,जान इन्हे 
हम कहते अपनी शान  इन्हे 
 ये   अपना  रंग  बदलते है  
और साथ बहुत कम टिकते है 
जैसे ही उमर गुजरती है ,
ये साफ़ और सफा होते है 
ये बाल बेवफा होते है 
ये बालवृन्द ,सारे सारे 
होते  ही कब  है तुम्हारे 
ये  होते  है   औलादों  से 
रह जाते है बस  यादों से 
संग छोड़ कहीं ये उड़ जाते 
कुछ संग रहते कुछ झड़ जाते 
ये करते अपना रंग बदला 
करते हमको ,गंजा ,टकला 
अहसास उमर का करवाते 
मुश्किल से  साथ निभा पाते 
ना रखो ख्याल,उलझा करते ,
ये खफा ,हर दफा होते है 
ये बाल बेवफा होते है 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: