*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, May 25, 2016

ऐसा भी होता है

   ऐसा भी होता है

शोख भी थी ,चुलबुली थी,कटीली सुंदर हसीना ,
सताती थी,लुभाती थी ,दिखा कर अपनी अदाएं
मज़ा आता था हमे भी ,छेड़ते थे जब उसे हम,
वो खफा हो रूठ जाती ,मानती ना थी मनाए
परेशां होकर के उसने ,हमे एक दिन छूट  दे दी ,
ना , न बोलूंगी ,करो तुम ,जो तुम्हारे मन में आये
अचानक से पैंतरा उसका बदलता देख कर के ,
ऐसे भौंचक्के हुए हम, घबरा कुछ भी कर न पाये

घोटू

No comments: