*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, May 15, 2016

वो सुंदर सुंदर कामनियां

वो सुंदर सुंदर कामनियां

फैशन से इतनी हुई ग्रस्त
हो रहे प्रदर्शित ,अधोवस्त्र
सब श्वेतचर्म और गौरवर्ण ,
इस चंचल मन को मोह लिया
वो सुन्दर सुंदर कामनिया
लम्बी लम्बी उघडी टांगें
इठलाती चलती बल खाके
थे स्वर्ण ,रजत से कटे केश,
खिलखिला चहकती,चुरा जिया
वो सुंदर सुंदर कामनियां
गंधें ,तीखी परफ्यूमो की
सुंदर और प्यारी ,परियों सी
 नयनो को बहुत  लुभाती थी ,
हमने देखा ,दिल थाम लिया
वो सुंदर ,सुंदर कामनियां

घोटू

No comments: