*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, May 16, 2016

पत्नी को पटाओ

        पत्नी को पटाओ

जिसने अपनी पत्नीजी को साध लिया ,
समझो उसने ,सब दुनिया को साध लिया
सुख की सीताजी ,अब तो मिल ही जायेगी ,
तुमने हनुमन बन ,भरा समंदर लांघ लिया
ये पत्नी  होती ही  सीधी सादी है ,
थोड़ा प्यार दिखादो ,लुट लुट जाती है
जिनको आती ,कला पटाने की इनको ,
उनके जीवन में ,ये खुशियां बरसाती है
ये गायें है,दूध ढेर सारा देंगी ,
दाना खिला ,प्यार से जो पुचकारोगे
वर्ना इनके सींग बड़े ही पैने है,
ये तुम्हे चुभा कर मारेगी ,यदि मारोगे
कैसे भी हो,साथ निभाना जीवन भर
एक बार जो गठबंधन है बाँध लिया
जिसने अपनी पत्नी को है साध लिया ,
समझो उसने सब दुनिया को साध लिया
 मीठे मीठे वादों का चारा  डालो तुम,
बढ़िया बढ़िया ,गहने और कपडे पहनाओ
अच्छे अच्छे होटल में इनको ले जाओ,
तारीफें इनकी करो,प्रेम से सहलाओ
तुम यदि देवी समझ इन्हे जो पूजोगे ,
तो ये तुमको भी मानेगी  परमेश्वर
तुम लम्बी उमर जियो और खुशहाल रहो,
ये व्रत और पूजा कई करेगी ,जीवन भर 
ऐसे ही पति ,समझदार कहलाते है ,
जिनने हंस हंस कर ,जीवन का आल्हाद लिया
जिसने ,अपनी पत्नीजी को साध लिया ,
 समझो उसने सब दुनिया को साध लिया 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: