*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, May 20, 2016

अब रौब जमाना शुरू किया

    अब रौब जमाना शुरू किया

मैंने तारीफ़ की बढ़ चढ़ कर
मेरी कवितायें पढ़ पढ़ कर ,
मेरी पत्नी ने मुझ पर ही ,
            अब रौब जमाना शुरू किया
पहले जो कुछ ना कहती थी
बस  सेवा करती    रहती थी
उसने अब अपनी ऊँगली पर ,
              है मुझे  नचाना शुरू किया
लिख लिख कविता पत्नीवादी
हो   गई   मेरी  ही   बरबादी
मेरी बिल्ली थी ,मुझसे ही,
              अब म्याऊं म्याऊं कहती है
वो कभी डाटती है डट कर
और रौब गाँठती है मुझ पर ,
मइके  जाने की धमकी दे ,
                वो मुझे डराती रहती है
थी सीधी सादी  एक  गऊ
पर अब पीने लग गयी लहू ,
दिन भर की खीज और गुस्सा ,
         सब कुछ उतारती है मुझ पर
जो डाला अगर नहीं चारा
और नहीं प्यार से पुचकारा
तो देती नहीं दूध बिलकुल,
        और सींग मारती है मुझ पर
कुछ भूल हुई ऐसी भारी
निज पैरों मारी  कुल्हाड़ी
करवाई खुद  ऐसी तैसी ,
             हो गए बहुत ही परेशान
हम ऐसे जले दूध के है
अब पीते छाछ फूंक के है ,
कितनी ही ठोकर खायी है ,
        तब आया थोड़ा ,बहुत ज्ञान    
फरमाइश बढ़ती रोज रोज
वो मुझसे लड़ती  रोज रोज ,
उनकी इस हरकत ने मुझको,
       अब रोज खिजाना शुरू किया
मैंने तारीफ़ की बढ़ बढ़ कर
मेरी कविताएं पढ़ पढ़ कर ,
मेरी पत्नी ने मुझ पर ही  ,
       अब रौब जमाना शुरू किया

मदन मोहन बाहेती'घोटू'
  
             

No comments: