*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, May 28, 2016

मन को खलता है

        मन को खलता है

पास पास बैठें ,पर चुपचुप ,मन को खलता है
हाथ न जिसके कुछ आता ,हाथों को मलता है
यूं तो तन के ,एक कोने में ,धक धक करता है,
पर जब जिद पर आजाता दिल ,बहुत मचलता है
दुबली पतली तीली का मुंह,यूं   ही, काला   है ,
तो माचिस से ,टकराने  पर ,वो क्यों जलता है
नित नित ,झाग झाग हो साबुन ,जीवन  जीता है,
साफ़ दूसरों को  करता ,खुद तिल तिल  गलता है
 जलती हुई आग की ज्वाला ,भी बुझ जाती है,
शीतल शीतल ,जल का जादू,सब पर चलता है
रोज मुसाफिर ,आते जाते ,रात  बिताते  है ,
जग ,होटल के बिस्तर सा है,नहीं बदलता है
अलग मान्यता,अलग अलग ,जगहों पर होती है ,
पूजा जाता कहीं,कहीं पर ,रावण जलता  है
कंकरीले,पथरीले पथ पर ,ठोकर लगती है ,
एक बार जो गिर जाता है ,वही संभलता है
डंडे से यदि जो अनुशासन ,आये ,लाएंगे ,
हमको सोच बदलनी होगी ,सब कुछ चलता है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

1 comment:

prateek singh said...

मदन जी आपकी कविता में बेचैन मन को बहुत ही शालीनता व सुगमता से दर्शाया है आपकी कविता दैनिक जीवन से जिस प्रकार से जुडी हुयी है वो बहुत भी सराहनीय है आप अपनी इस प्रकार कविताएं शब्दनगरी पर भी लिख सकते हैं .......