*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, May 20, 2016

चुपचाप ही रहा जाए

         चुपचाप ही रहा जाए

न जाने कौन बात ,उनके दिल को चुभ जाए
इससे बेहतर है ,कि चुपचाप  ही  रहा   जाए
हमने तारीफ़ की थी  चाँद जैसे  चेहरे की ,
चाँद में दाग है ,ये सोच  बुरा मान गए
हमने बोला कि तुममे नूर बरसे सूरज का ,
सूर्य में आग है ,ये सोच बुरा मान गए
उन्हें गुलाब के फूलों सा जो बताते है,
बुरा लगता है क्योंकि होते संग कांटे है
हमने बोला कि तुम जन्नत की परी लगती हो ,
बिगड़ गए वो कि जन्नतनशीं बताते है
हर एक बात को वो उलटे से ले लेते है,
उनकी तारीफ़ भला किस तरह से की जाए
इससे बेहतर है कि   चुपचाप  ही रहा  जाए
बताया उनकी जो आँखों को हिरणी जैसा ,
हम उन्हें जंगली कहते,वो खफा हो बैठे
सराही हमने उनकी जुल्फें लटके नागिन सी,
नागिने ,जहरीली  होती है ,समझ वो बैठे
कहा हमने उन्हें जो रूप का समंदर तो ,
बिगड़ गए वो कि खारा हम उन्हें कहते है
जब कि हम उनसे बेपनाह मोहब्ब्त करते ,
जान से भी अधिक प्यारा , हम उन्हें कहते है
हम तो कायल है ,उनके हुस्न के दीवाने है,
किस तरह समझाए ,हम को ये समझ ना आये
इससे  बेहतर  है कि  चुपचाप ही रहा  जाए

मदन मोहन बाहेती'घोटू'
 

No comments: