*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, March 15, 2016

ये लललन टॉप होती है

     ये लललन टॉप होती है

नचाती मर्दों को रहती ,उँगलियों के इशारों पर ,
        इन्हे कमजोर मत समझो,ते सबकी बाप होती है
पति मुश्किल का मारा है ,बिना इनके अधूरा है ,
       बटर सी प्यारी लगती है ,ये 'बेटर हाफ ' होती  है
नहीं चुप बैठ सकती है ,बोलना इनकी फितरत है ,
        जलजला आने को होता ,जो ये चुपचाप  होती है
कोई कितना भी फन्ने खां,समझता खुद को हो लेकिन,
        झुका है इनके कदमों में ,ये लललन टॉप  होती है

घोटू 

No comments: