*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, February 27, 2016

हुस्नवालों से

         हुस्नवालों से 
                 १
तुम्हारे हुस्न का चर्चा ,यहां हर बार होता है
वो दिन अच्छा गुजरता जब ,तेरा दीदार होता है
न जिस दिन तुम नज़र आते ,बड़ा बेचैन रहता हूँ,
मुस्करा देते हो जिस दिन,मेरा त्योंहार  होता है 
                   २  
अदाएं ,नाज़ और नखरे ,दिखा हमको सताते हो
संवरते और सजते हो ,हमारा दिल  लुभाते हो
देख कर हुस्न का जलवा ,छेड़ते तार हो मन के ,
जरा सा छेड़ हम देते ,तो तुम तोहमत  लगाते  हो

 घोटू 
                                               
 

No comments: