*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, February 18, 2016

मिली हो जबसे तुम हमसे

       मिली हो जबसे तुम हमसे

मिली हो जबसे,तुम हमसे ,हुए है बावरे से हम
न सर्दी है ,न गर्मी है,बसंती   लगता हर मौसम
झिड़कती प्यार से जब तुम,बरसने फूल लगते है
कभी जब मुस्करा देती ,हमे कर देती हो बेदम
तुम्हारे खर्राटे  तक भी ,मधुर लोरी से लगते है ,
तुम्हारी रोज की झक झक ,लगा करती हमे सरगम
तुम्हारे हाथों को छूकर ,कोई भी चीज जो बनती,
बड़ी ही स्वाद लगती है ,न होती पकवानो से कम
बनाती हो जो तुम फुलके ,वो लगते मालपुवे से,
तुम्हारी सब्जियां खाकर ,उँगलियाँ चाटते है हम
 इसी डर से,कहीं तुम पर ,नज़र कोई न लग पाये  ,
लटकते नीबू  मिरची से ,तेरे दर पे है हाज़िर हम
तुम्हे खुश रखने में जानम ,निकल जाता हमारा दम
खुदा का शुक्रिया फिर भी,मिली तुम जैसी है हमदम

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: