*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, February 21, 2016

लड्डू और जलेबी

         लड्डू और जलेबी

एक जमाना था हम भी थे दुबले पतले ,
       लगते थे मोहक,आकर्षक ,सुन्दर ,प्यारे
जिसे देख ,तुम रीझी और प्रेमरस भीझी ,
       मिलन हुआ ,हम जीवनसाथी बने तुम्हारे
और आजकल तुमको रहती यही शिकायत,
       फूल गए हम , फ़ैल गया है बदन  हमारा
दौलत ये सब ,सिर्फ बदौलत है तुम्हारी,
         चर्बी नहीं,भरा है तन में  प्यार  तुम्हारा
चखा चाशनी, अपनी रसवन्ती बातों की ,
      स्वर्णिम आभा लिए जलेबी  तुम ना होते
नहीं प्यार का रोज रोज आहार खिलाते ,
       तो फिर गोलमोल  लड्डू से  हम ना  होते

घोटू
            

No comments: