*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, October 9, 2015

Akanksha: टूटे दिल के तार

Akanksha: टूटे दिल के तार: टूटे वीणा के तार  कभी ना जुड़ पाए  किये प्रयास हजार  पर न सुधर  पाए पहले सी मिठास नहीं सुर बेसुर हो गए कण कटु लगने लगे आकर्षण ...

No comments: