*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, September 13, 2015

बिगड़ी बातें


            बिगड़ी बातें

बीबी की ख्वाइश पूर्ण न हो,बीबी का मूड बिगड़ता है
बीबी की ख्वाइश  पूर्ण करो ,तो घर का बजट बिगड़ता है
बच्चों की जिद पूरी न करो ,तो हम पर वे बिगड़ा करते
और उनकी हर जिद पूर्ण करो तो बच्चे है बिगड़ा करते
जब दूध बिगड़ता,फट जाता,उसमे खटास आ जाता है
जब रिश्ते बिगड़ा करते है ,मन में खटास आ  जाता है
फसलें बिगडे ,हो बर्बादी  ,बेबस किसान बस रोता है
 नस्लें बिगड़े बन तालिबान ,सारा जहान तब रोता है
जब उन्हें देखते सजा धजा ,अपना ईमान बिगड़ता है
जो छेड़छाड़ थोड़ी करते ,उनका श्रृंगार  बिगड़ता  है
उनका मिजाज बिगड़ जाए ,घर भर सर पर उठ जाता है
कोई की तबियत जब बिगड़े ,तो वो बीमार कहलाता है
दफ्तर पहुँचो यदि देरी से ,गुस्सा  हो बॉस बिगड़ जाता
जब पोल किसी की खुलती है तो सारा खेल बिगड़ जाता
सब कहते बंद हो गयी है ,यदि घड़ी बिगड़ जो जाती है
लड़की जब बिगड़ा करती है ,तो वो 'चालू' हो जाती है
सत्ता विपक्ष में ना पटती ,आपस में बात बिगड़ती है
परिणाम भुगतती है जनता ,उनकी लड़ाई जब बढ़ती है
मौसम जो अगर बिगड़ जाता ,तो बड़ा कहर वो ढाता है
बस एक वो ऊपरवाला है ,सब बिगड़ी  बात बनाता  है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: