*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, September 17, 2015

स्विमिंगपूल और डेंगू

            स्विमिंगपूल और डेंगू
                         १
अदना सा देख कर के ,'इग्नोर'नहीं करना,
                हर शख्सियत की होती ,अपनी ही अहमियत है
जो काम होता जिसका , करता है अच्छा  वो ही ,
                 तलवार  क्या  करे जब ,सुई   की   जरूरत   है
कहते है हाथी तक भी, घबराता चींटी से है,
                   वो सूंड में जा उसकी ,  कर  देता  मुसीबत है
कल तक जो था लबालब ,हम तैरते थे जिसमे,
                  डेंगू के  डर  से खाली ,स्वमिंगपूल   अब  है
                       २
मच्छर जिसे हम यूं ही ,देते मसल मसल थे ,
                 अब तोप से भयानक  ,उसकी नसल हुई है
डेंगू के इस कहर से ,सब कांपने लगे है,
                  कितनी  दवाइयाँ  भी ,अब बेअसर  हुई  है
डेंगू के  डर से  देखो, अब हो  गया है खाली,
                 था कल तलक लबालब ,जो तरणताल प्यारा
जबसे गयी जवानी, हम हो गए है खाली ,
                 इस तरणताल  सा ही ,अब हाल   है  हमारा
                            ३      
तुच्छ को तुच्छ कभी ,मत समझो भूले से ,
               बड़े बड़े उच्चों को ,ध्वंस कर सकता है
छोटी सी लड़की ने ,संत को पस्त   किया ,
               आज भी आसाराम ,जेल में  सड़ता है
तुच्छ सी तीली से ,जंगल जल जाता है,
                तुच्छ सी गोली से ,प्राण निकल सकता है
छोटा सा मच्छर भी ,अगर काट लेता है,
               मलेरिया ,डेंगू से ,बड़ा  विकल  करता  है
                     
  मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: