*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, September 13, 2015

बर्बाद फसल

           बर्बाद फसल

एक राजनेता का उदयीमान युवराज
चुनाव में शिकस्त मिलने से था नाराज
कुछ दिन उसने लिया अज्ञातवास
और फिर से करने लगा प्रयास
जनता में अपनी पैठ बनाने को
इसलिए ,जब भी कहीं कोई हादसा होता ,
पहुँच जाता था अपनी सहानुभूती दिखलाने को
एक बार ,मौसम की बेरुखी से ,
किसी गाँव की फसल हो गयी बरबाद
वो झट से पहुँच गया ,सहानुभूति दिखलाने ,
अपनी अम्मा के साथ
और करने लगा किसानो से संवाद
कृषि के बारे में देख कर उसका अल्पज्ञान
हैरान हुए सब किसान
सोचने लगे क्या इसी के हाथों में,
सौंपी जानी थी देश की कमान
और फिर उन्होंने सचमुच सर पीट लिया
जब उसने उनको ये सुझाव दिया
कि आप इतनी मेहनत कर ,
खेतो में अनाज क्यों उपजाते है
जब हमारी सरकार थी तो हमने ,
सभी फ़ूड कार्पोरेशन के गोदामो में ,
इतना अनाज भर रखा था ,
आप वहीँ से अनाज क्यों नहीं ले आते है
 फिर भी ,मैं सरकार के आगे ,
आपका मुद्दा उठाऊंगा
और आपको आपकी बरबाद फसल का ,
मुआवजा दिलवाऊंगा
उसकी बातें सुन गाँव के लोगों ने ,
आपस में विचार विमर्श किया
और जिससे जितना हो सकता था ,
चंदा इकठ्ठा किया
और उसकी माताजी के हाथ में पकड़ा दिया
और उससे बोले कि,
 हम इससे ज्यादा कुछ न कर सके ,
यह हमारी विवशता है
हमारी फसल बरबाद हुई है ये तो  ठीक है ,
पर आपकी भी फसल बर्बाद हुई है ,इसलिए ,
आपका भी कुछ मुआवजा तो बनता है
और क्योंकि सरकार की नीतियों में ,
इस तरह की फसल की बर्बादी के लिए ,
मुआवजे का नहीं है कोई प्राविधान
इसलिए मुआवजे स्वरूप ,
कबूल कीजिये ,हमारा ये छोटा सा योगदान

घोटू

No comments: