*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, August 11, 2015

प्रतिकार

            प्रतिकार
आपने हमसे निभाई दोस्ती ,
                प्यार हमने दे दिया प्रतिकार में
लेने देने का यही तो सिलसिला ,
               चल रहा है ,युगों से  ,संसार में
  देते दिल तो बदले में मिलता है दिल ,
 मोहब्बत के बदले मिलती मोहब्बत ,
और नफरत लाती है नफरत सिरफ ,
                  मिलता झगड़ा है सदा तकरार में
किसी का तुम भला करके देखिये,
 सच्चे मन से मिलेगी तुमको दुआ ,
मदद करना किसी जरूरतमंद की ,
                     पुण्य है सबसे बड़ा  संसार में                          
कर्म जो तुम करते हो इस जन्म में ,
उसका फल मिलता है अगले जन्ममे,
बस यही  तो कर्म का सिद्धांत  है ,
                      मोक्ष है,सद्कर्म ,सद्व्यवहार में

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: