*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, July 6, 2015

''दर्प का रुख पर चश्मा लगाकर न बह ''


अच्छा इन्सान बन डर ख़ुदा ख़ौफ़ से
बेआवाज लाठी में होती हैं दुश्वारियां ।

कभी सामने रखकर अपने तुम आईना
पूछ लेना क्या-क्या तुममें हैं खामियां
दर्प का रुख पर चश्मा लगाकर न बह
हवा देखना पहाड़ साधे है खामोशियाँ ।

शक्ल बदलेगी जिस दिन अपना गुमां
साथ अहबाब ना होंगे होंगी तन्हाईयाँ
गुरुर इतना भी अच्छा कब रूप-रंग का
उम्र भर कहाँ साथ दोस्त देतीं रानाईयां ।
 
दम्भ,मद-अहं से लबरेज मिज़ाज लहज़े
आबो-ए-हवा में देखना अपने वीरानियाँ
ये लाव-लश्कर कभी देंगे तुम्हें शिकस्त
रोना फ़ितरत पर कर याद मेहरबानियाँ


अहबाब--लोगबाग,मित्र,समूह
रानाईयां--सौन्दर्य , फ़ितरत --स्वभाव

                                   शैल सिंह  

No comments: