*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, May 8, 2015

एक सलमान-दो दो ज्ञान

           एक सलमान-दो दो ज्ञान
                             १
   भले ही है ,भलामानस ,है बिरला  एक लाखों में
   बड़ा ही है दबंग दिल से ,बसा कितनी ही आँखों में ,
   नशे में क्या बुराई है ,कोई सलमान से  पूछे ,
  जमानत जो नहीं मिलती,तो होता बंद सलाखों में
                              २
लड़ाया इश्क़ कितनो से ,चलाये तीर नज़रों के ,
         किसी को मारा थप्पड़ तो ,पराई हो  गयी  कोई
बहुत सी लड़कियां गोरी,अभी भी मरती है उस पर ,
    चल रहा है अभी तक तो ,सिलसिला वो का ही वोही
बड़ा ही है दबंग बन्दा ,रंगे है सबके रंग बन्दा ,
      किसी भी काली लड़की पर ,नज़र उसने नहीं डाली
पड़ गया गलती से पीछे ,वो एक काली हिरणिया के,
             कटाये जेल के चक्कर   ,बुरी हालत बना डाली

घोटू

No comments: