*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, October 8, 2014

तरक्की

              तरक्की

आँखों में सपने उमड़ने लगे है
अब लोग आगे भी बढ़ने लगे है
कदम चार चल के ही जाते थे थक जो,
वो अब पर्वतों पे भी ,चढ़ने लगे है
छोटे से गावों और कस्बों के बच्चे ,
अब 'आई आई टी' में पढ़ने  लगे है
रखा रिक्शेवालों ने ,मोबाइल नंबर ,
वो भी अब तो 'मार्केटिंग' करने लगे है
कल काम पर हम न आएंगे मेडम,
महरी के  मेसेज   मिलने लगे है
वो आया था कल ,ले मिठाई का डब्बा ,
पड़ोसी से रिश्ते ,सुधरने  लगे है
दिखी जब से नेता के हाथों में झाड़ू ,
सड़कों से पत्ते खुद उड़ने लगे है
आएंगे दिन अच्छे ,लगता है ऐसा ,
समय से अब दफ्तर जो खुलने लगे है

घोटू

No comments: