*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, October 8, 2014

सुहागरात

           सुहागरात

आपने था किया,हमसे वादा डियर ,
         दिल में अपने रखोगे,सजा उम्र भर
बड़े अरमान से,तुमको मिलने को हम ,
           बैठे थे सेज पर ,हम बड़े सज ,संवर
आप आये भरे जोश,मदहोश से,
            हो रहे थे दीवाने ,बड़े बेसबर
मेरे कपडे सभी ,कर दिए बेकदर ,
            एक फेंका इधर,एक फेंका उधर
मेरा सजना,संवरना बस यूं ही गया,
          तुमने देखा भी ना,ये भी क्या बात है
दो घड़ी बैठ कर,प्यार से बोलते ,
           करते बातें ,ये पहली मुलाक़ात है 
हंस वो बोले यही,तुम हो इतनी हंसीं ,
            आज काबू में मेंरे , न जज्बात है
तुमको दिल में सजाने ,उम्र है पडी ,
           जानेमन,आज अपनी सुहागरात है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: