*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, October 2, 2014

आँख मेरी लड़ गयी है

           आँख मेरी लड़ गयी है 

आँख में तुम इस तरह से बस गयी हो,
     सपनो को भी जगह कम पड़ने लगी है
इसलिए तो आजकल गाहे ब गाहे,
         नींद मेरी अचानक उड़ने  लगी  है 
इश्क़ में हालात ऐसे हो गए है ,
      जिधर भी मै देखता हूँ तुम्ही तुम हो,
खुदा जाने होगी तुम कितनी नशीली ,
        देख कर जब खुमारी  चढ़ने लगी है
जबसे तुमसे आँख मेरी लड़ गयी है,
       नज़र तिरछी इस तरह से गढ गयी है,
दिल में मेरे कुछ न कुछ होने लगा है,
         मिलन की संभावना बढ़ने लगी  है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: