*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, September 18, 2014

अलग अलग अनुभूतियाँ

         अलग अलग अनुभूतियाँ

पिता के चरणो को छूते ,मिलता आशीर्वाद है ,
          तरक्की करते रहें और सदा आगे बढें  हम
माँ की गोदी में रखो सर ,मिलता है मन को सुकून ,
       शांति मिलती ,भूल जाते,दुनिया के रंज औ' सितम
और जब आते है अपनी प्रिया के आगोश मे,
        होश गुम होते है सबके ,हो जाते मदहोश   हम  
लेते है गोदी में जब हम ,अपनी ही औलाद को,
       ममता और वात्सल्य रस में ,भीग जाता सबका मन
बहुत दिन के बाद जब मिलते पुराने दोस्त है,
         अलग ही आनंद होता ,लेते है जब   झप्पियां
 हर मिलन में हुआ करती भावनाएं है अलग ,
           इसलिए हर मिलन में होती अलग अनुभूतियाँ

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: