*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, September 18, 2014

अनमेल जोड़ी

             अनमेल  जोड़ी

गले में बन्दर के देता ,मोतियों का हार  है ,
        गधों के भी भाग्य में ,लिख देता चंचल घोड़ियाँ
पत्नी टीचर ,पति फटीचर ,क्या अजब सा मेल है ,
            खुदा तू भी बनाता है  ,कैसे कैसी जोड़ियां
मैंने उससे पूछा तो ये खुदा ने उत्तर दिया ,
           एक से हों मियां बीबी ,तो' ईगो 'टकराएगा ,
एक बेहतर ,एक कमतर ,कर लेते 'एडजस्ट 'है,
          टिकाऊ होती है अक्सर , इस तरह की जोड़ियां

घोटू

No comments: