*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, August 2, 2014

इन्तहा इंतज़ार की

इन्तहा इंतज़ार की 



दो आँखों की बेकरारी कर रही है किसी का इंतज़ार 
ये बिखरा हुआ सन्नाटा उसको कर रहा है बेकरार 
उसके कदमो की आहट सुनने को है बेताब 
वो है उसका नूरे नजर ,गुले-गुलजार, आफताब
जाने कब हो गया अचानक वो ओझल
 इन्तजार का एक एक पल  अब लगता है बोझल
आँगन में लगे पेड़ पर पतझड़ के बाद आई बहार
 उसकेजीवन में ना आया पतझड़ ,सावन ,वसन्त. बहार
वो आएगा एक दिन  जरूर यही है उसका विश्वास
इन्तजार में जी रही, उसके जीवन की यही है सबसे बड़ी आस
जीवन के प्रत्तेक लम्हे  में है सिर्फ उसी का  इन्तजार
सब कुछ भूल गई है, जोगन की तरह बस याद है उसका प्यार
याद मेंउसकी तड़प तड़प के होती जा रही है वो बाबरी
रो रो के बेहाल हो गई उसकी दो आँखे कजरारी
जान से भी ज्यादा जिसको प्यार करती है वो बेइन्तहा 
अब तो उसके इन्तजार की हो गई है इन्तहा
उसकी आशा का दीपक भी अब टिमटिमा रहा है 
पर ये सन्नाटा और क्यों गहराता जा रहा है 
ये सन्नाटा और क्यों गहराता जा रहा है?






No comments: