*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, July 9, 2014

धरा को मौसम की सौगात तो दो


टकटकी लगाये देखें आँखें 
बस अम्बर की ओर
कड़क तड़क कर ललचाये
काली घटा घेरी घनघोर ,

ख़फा-ख़फा क्यों बरखा रानी
कर दो ना थोड़ी मेहरबानी
लेकर उधार कजरारे बादल से
नियत समय बरसा दो पानी ,

कृषक बेहाल हैं सुखी धरती
खेत कियारी पड़े हैं परती
कहीं दिखे ना हरी दूब औ चारा
भेड़ बकरियां गायें क्या चरती ,

घर नहीं अन्न का एक भी दाना
ठाला पड़ा कोठिला का कोना
रहम करो ओ बादल राजा
लगा लो गुदड़ी का अन्दाजा ,

घर जला नहीं है कबसे चूल्हा
फटका कबसे नहीं है राशन कूला
सुखा कंठ हैं क्षुधा है भूखी
काट रहे दिन खाके रूखी-सूखी ,

सूरज बहुत हो गई तेरी वाली
तपन से झुलसी देह की बाली
कृपा कर सूनो मानवता का शोर
कब होगी धुँधलाई आँखों में भोर ,

क्यों कंजूस बने हो मेघराज जी
धरा को मौसम की सौगात तो दो
बोवनी का समय खिसक ना जाए
गायें सभी मल्हार बरसात तो दो ,

आमंत्रण स्वीकार करो आह्लाद से
छोड़ बेरुखी घन धमक दिखाओ ना
टर्र-टर्र करती मेंढकी ,चर-अचर के
भी,मन की,बूँदों प्यास बुझाओ ना ।

कियारी--क्यारी ,परती--बिना बुवाई जुताई
कोठिला--अनाज रखने का हौज
फटका--पछोरना ,कूला--सूप

                                    शैल सिंह 

2 comments:

Asha Saxena said...

उम्दा और आज की मांग लिए रचना |

Shail Singh said...

धन्यवाद आशा जी ,आपने मेरी कविता पढ़ी अच्छा लगा ,मेरा ब्लॉग भी पढ़िए ।
http://shailrachna.blogspot.in/