*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, July 8, 2014

दौलत -महोब्बत की

             दौलत -महोब्बत की

बड़ा ही नाज़ दिखलाते ,
हुस्न पर अपने इतराते,
 हवा में उड़ते रहते है,
             जवानी जिस पे चढ़ती है
समय के साथ दुनिया की ,
हक़ीक़त सामने आती ,
ये गाडी जिंदगानी की,
           बड़ी रुक रुक के बढ़ती है
दौलते जिस्म हो चाहे,
दौलते  हुस्न हो चाहे ,
ये दोनों दौलतें ऐसी ,
         समय के साथ ढलती है
मगर  दौलत महोब्बत की,
 इश्क़ की और चाहत की ,
  ये दौलत  दोस्ती की है,
           दिनों  दिन दूनी बढ़ती है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

1 comment:

देवदत्त प्रसून said...

वास्तव में यही दौलत साथ जाती है , शेष यहीं रह जाता है