*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, July 8, 2014

खुशबू

                         खुशबू

चाहे कितना भी मंहगा हो ,एक पत्थर का टुकड़ा है ,
         मगर सुहाती है सबको ही  ,जगमग एक नगीने की
जब खिलता है पुष्प ,हमेशा, बगिया को महकाता है ,
        उसकी खुशबू सबको भाती ,आग बुझाती  सीने की
मगर हसीनों में सुंदरता और महक दोनों होते,
        अंग अंग फूलों सा नाजुक,मुख पर चमक नगीने की
लेकिन माशूक जब मस्ती मे ,अपना तन महकाती है,
        भड़काती है आग जिस्म की,खुशबू मस्त पसीने की

मदन मोहन बाहेती'घोटू'