*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, July 8, 2014

इनफ्लेशन और अवमूल्यन

    इनफ्लेशन और अवमूल्यन

हमें याद आते हैं वो दिन ,जब अपना सिक्का था चलता
थोड़ी सी ही इनकम थी पर ,परिवार सारा  था   पलता
कदर हमारी भी होती थी,हममें  था परचेजिंग पॉवर
घर का राशन फल और सब्जी,सब आते थे,थैला भर कर
साथ उमर के बड़े हुए हम ,बढ़ा चौगुनी गति, इनफ्लेशन
गयी हमारी कीमत घटती ,नहीं रहा हममें बिलकुल दम 
बच्चों की दौलत होती थी,कभी चवन्नी और अठन्नी
अब तो इनका चलन बंद है,लोग काटते ,इनसे कन्नी
जैसे इनकी कदर घाट गयी ,पूछ हमारी भी ना  वैसे
हम हज़ार के नोट बने ना,रहे  वही ,वैसे के  वैसे
इनफ्लेशन की तरह बुढ़ापा ,घटा दिया करता है कीमत
जैसे उसकी सेहत गिरती , घट जाती है ,उसकी  इज्जत 
अपना,इतना ये अवमूल्यन,हमको बहुत अधिक है खलता
हमें याद आते है वो दिन ,जब अपना था सिक्का चलता

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

2 comments:

gurpreet singh Butter said...

कई महिनोँ बाद यहाँ आकर अच्छा लगा।
यहाँ काफी अच्छी रचनाएँ पढने को मिलती हैँ।
धन्यवाद।

=मैँ आपको एक विशेष लघुकथा "गाँधी और भगत सिँह" पढने के लिए आमंत्रित करता हूँ।
www.yuvaam.blogspot.com

देवदत्त प्रसून said...

बात बिलकुल सच है !