*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, June 15, 2014

जिंदगी का मक़सद


हिमाञ्चल प्रदेश में व्यास नदी में जो बच्चे समाहित हो गए ,
 उनके परिजनों का यह विलाप 

छीनकर इस जिंदगी का मक़सद ओ आफ़रीदगार 
दस्ते गुरबत में डुबोकर क्या मिला परवरदिगार 
जीस्त जिसपे वारा था कहाँ ले गया ये आबशार 
हैरतज़दा भी हैफ़ भी रूठी किस्मत दिल आज़ार । 

 आफ़रीदगार--सृष्टि कर्ता 
 दस्ते गुरबत --दुखों के संसार में
जीस्त --जीवन  , आबशार--जल प्रपात 
हैफ़ --अफ़सोस  , आज़ार --दुःखदायी । 

No comments: