*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, May 13, 2014

मिलन

              मिलन 

तेरे अधरों की मदिरा के घूँट चखे है ,
                    युगल कलश से हमने अमृतपान किया है
रेशम जैसे तेरे तन को सहला कर के,
                     शिथिल पड़ा ,अपना तन मन उत्थान किया है
ऐसा तुमने बांधा बाहों के बंधन में ,
                        बंध  कर भी मन का पंछी उन्मुक्त  हो गया,
तन मन एकाकार हो गए मिलानपर्व में,
                          ऐसा हमतुमने मिल स्वर संधान किया है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: