*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, May 13, 2014

ख्वाइशों का समंदर

        ख्वाइशों का समंदर

खायेगें वो भिगोकर के चाय में,
                   कुरकुरे बिस्किट उन्हें पर चाहिये
जिनके सर पर गिनती के ही बाल है,
                    उन्हें ही कंघे अधिकतर  चाहिये
भले निकले खट्टा और रेशे भरा ,
                     दिखने में पर आम सुन्दर  चाहिये
काटे बिन तरबूज को वो चाहते,
                     मीठा भी और लाल अंदर   चाहिये
लगा देंगे करने घर का काम सब ,
                      मगर  नाजुक ,हसीं  दिलवर चाहिये
सर्दियों में चाहिए गरमी हमें,
                      गरमी में सर्दी   का मंजर   चाहिये
नेताजी के पाँव लटके कब्र में,
                       तमन्ना ,बनना  मिनिस्टर  चाहिये
कुवे तक तो बाल्टी जाती नहीं,
                        ख्वाइशों का पर  समन्दर  चाहिये

घोटू 

No comments: