*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, May 8, 2014

आराधन और मिलन

आराधन और मिलन

कीर्तन में भी तन होता है
आराधन में धन होता है
और भजन और पूजन में ,
पाओगे जन जन होता है
होती है 'रति'आरती में,
है भोग ,आचमन सब होता
आराधन और मिलन में भी,
है यह संयोग ,गजब होता

घोटू

No comments: