*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, May 25, 2014

चुनाव के बाद का चिंतन

       चुनाव के बाद का चिंतन
                       १
क्या बतलाएं ,हम पर कैसी बीती है
कल तक भरी हुई गगरी ,अब रीती   है
हुआ तुषारापात  सभी आशाओं  पर ,
हार गए हम , अबके  जनता  जीती है
                     २
सपने सारे मिटे , धूल में,बिखर गए
नहीं तालियां,मिली गालियां ,जिधर गए  
उड़ते थे स्वच्छंद ,आज हम अक्षम है ,
वोटर  ऐसे  पंख हमारे   क़तर  गए
                   ३
कुछ  कर्मो  के  फल से ,कुछ नादानी में
ध्वस्त हुए ,मोदी की  तेज सुनामी  में
बचे खुचे हम,मिल कर आज करें चिंतन ,
डूब गए क्यों ,हम चुल्लू भर पानी में

घोटू

No comments: