*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, May 23, 2014

ब्याह तू करले मेरे लाल

            घोटू  के   पद
       ब्याह तू करले मेरे लाल

ब्याह तू करले मेरे लाल
नयी बहू के पग पड़ करते कितनी बार ,निहाल
होनी थी जो हुई ,मिटा दे ,मन का सभी मलाल
जनता के भरसक सपोर्ट का,रहा यही जो  हाल
मोदी की सरकार चलेगी ,अब दस पंद्रह साल
अपना बैठ ओपोजिशन मे ,बिगड़ जाएगा हाल
चमचे भी सब  ,मुंह फेरेंगे,देख   समय  की चाल
मैं बूढी,बीमार  आजकल, तबियत  है   बदहाल
चाहूँ देखना , हँसता गाता , मै , तेरा   परिवार
युवाशक्ति बन कर उभरेंगे ,तेरे  बाल  गोपाल
अपने अच्छे दिन आएंगे ,तब फिर से एकबार
ब्याह तू,करले मेरे लाल

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: