*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, May 22, 2014

राज़-सुखी वैवाहिक जीवन का

           राज़-सुखी वैवाहिक जीवन का  

सुखी वैवाहिक जीवन का, हमारे राज़  है इतना  ,
                     जो भी कहती है बीबीजी ,काम हम वो ही करते है
नहीं गुलाम जोरू के ,मगर हम भक्त पत्नी के,
                      इशारा उनकी उंगली का ,और हम नाचा करते  है
भले ही हमसे दफ्तर में,डरे अफसर से चपरासी ,
                       मगर घर पर है बीबीजी ,हमारी बॉस ,डरते है
मिलाने उनके सुर में सुर ,की आदत पड़ गयी इतनी ,
                       खर्राटे जब वो भरती  है , खर्राटे हम भी भरते है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: