*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, May 19, 2014

माँ बाप के प्रति

             माँ बाप के प्रति

जिन हाथों ने ऊँगली पकड़ सिखाया था ,
                       उठना हमको और एक एक पग रख चलना
आज बुढ़ापे में है वो कमजोर हुए ,
                        कमर झुक गयी और हुआ  मुश्किल   चलना
तो क्या आज हमारा  ये कर्तव्य नहीं,
                          उनकी  उंगली  थामे ,उन्हें   सहारा  दें
वो प्यारे माँ बाप हमारे बूढ़े है ,
                           पूरी श्रद्धा से ,जी भर प्यार हमारा दें
हम जो भी है,उनकी आज बदौलत है ,
                             अब भी रखते है फ़िक्र,रहा करते बेकल
  हमने जो फल फूल, सफलता पायी है,
                               यह सब  उनके आशीर्वादों का ही  फल
बचपन में जो लिखना हमें  सिखाते है ,
                                  अ ,आ ,इ ,ईं ,अक्षर ज्ञान  कराते है
 देखो कैसी है यह  विडंबना जीवन की,
                               हम पढ़ लिख कर ,उन्हें गंवार बताते है
जीवन में जब भी हमने ठोकर खाई ,
                                 गिरे, उन्होंने  पकड़ा   हाथ, उठाया  है
झाड़ी धूल वस्त्र से , हमें प्रेरणा दी ,
                                 और  हमारे  घावों को सहलाया  है
आज उमर के साथ,हाथ उनके कांपे ,
                            वो बूढ़े है ,वो निर्बल है ,अक्षम   है
पर अनुभव की भरी पोटली उनके संग ,
                            उनका साया ,सर पर है, ये क्या कम है
उनकी पूजा करो,करो उनकी सेवा ,
                              मातृ पितृ ऋण ,तुमको  अगर  चुकाना हो
उनके आशीर्वादों से भरलो झोली ,
                                पता नहीं कल का,कल वो हो भी  या ना हो

मदन मोहन बाहेती 'घोटू'

1 comment:

PBCHATURVEDI प्रसन्नवदन चतुर्वेदी said...

बेहद उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
नयी पोस्ट@आप की जब थी जरुरत आपने धोखा दिया (नई ऑडियो रिकार्डिंग)