*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, May 16, 2014

बीते दिन


             बीते दिन

जिन गलियों में आते जाते रोज रहे ,
                     उन गलियों में गए कई दिन गुजर गये
जो सपने दिन रात आँख में बसते थे,
                       टूट टूट कर चूर हुए और बिखर गए
ऐसी आंधी चली , समय का रुख बदला,
                       बादल गरजे ,बिन मौसम बरसात हुई
ऐसी  ओलावृष्टि हुई अचानक ही ,
                       खड़ी फसल पकने को थी,बरबाद  हुई
फेर समय का था या किस्मत खोटी थी,
                       नीड बसे  ही ना थे,लेकिन उजड़ गए
जो सपने दिन रात आँख में बसते थे ,
                        टूट टूट कर चूर हुए और बिखर गए
ऐसा ना था भूल गए थे हम रस्ता ,
                       ऐसा ना था ,थी  मंज़िल की चाह नहीं
पर शायद  हिम्मत ही कम थी  पावों में ,
                       पहले जैसा था  मन में उत्साह नहीं
कभी चाँद पाने का मन में जज्बा था ,
                      पर वो जोश ,जवानी, जाने किधर गए
जो सपने दिन रात आँख में बसते  थे,     
                       टूट टूट कर चूर हुए और बिखर गए
हम उम्मीद लगा ये सोचा करते थे ,
                        कभी हमारे भी आएंगे  अच्छे दिन
और बुढ़ापे में  ये याद किया करते ,
                         हाय जवानी  में थे कितने अच्छे दिन
कल के चक्कर में घनचक्कर बने रहे ,
                         न  तो इधर के रहे और ना उधर गए
 जो सपने दिन रात आँख में बसते थे,
                           टूट टूट कर चूर हुए और बिखर गए

मदन मोहन बाहेती'घोटू'                       
                 

No comments: