*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, May 13, 2014

पसीना सबका छूटा है

     पसीना सबका छूटा है

कभी लन्दन की महारानी,कभी इटली की महारानी ,
                              विदेशी मेडमो ने देश मेरा ,खूब लूटा है
सताया खूब जनता को,मार  मंहगाई की चाबुक ,
                            बड़ी  मुश्किल से अब की बार उनसे पिंड छूटा है  
दुखी  जनता बड़ी बदहाल थी और परेशाँ भी थी,
                             घड़ा जो पाप का था भर गया ,अब जाके फूटा है
गिरी का शेर बब्बर जब दहाड़ा जोशमे आकर,
                             रंगे  सियार थे जितने ,पसीना  सब का छूटा है

घोटू

No comments: