*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, April 2, 2014

चुनाव के प्रत्याशी-तरह तरह के

         चुनाव के प्रत्याशी-तरह तरह के
                            १
               हम भी लड़े प्रत्याशी 
प्रत्याशी बारह  तरह,किसका करे बखान
'हम भी लड़े चुनाव में,हो जाएगा नाम 
                           २
             पब्लिसिटी प्रेमी
टी वी और अखबार में,हो जाएगा नाम
इसीलिये चुनाव में,उतरे कुछ अनजान
                     ३
          पेराशूट प्रत्याशी
जिनने पहले ना कभी ,देखा था जो गाँव
उतरे  पेराशूट से ,लड़ने  वहाँ  चुनाव
                      ४
          बहुत बूढ़े प्रत्याशी
उम्र पिचासी कब्र में ,लटके जिनके पाँव
पर सत्ता के मोह में ,लड़ते रहें चुनाव
                      ५
             दलबदलू प्रत्याशी
बांह दूसरी थाम ली ,    देख डूबती नाव
टिकिट मिला परसाद में,लड़ने लगे चुनाव
               ६ 
     रिजर्व   प्रत्याशी 
सरकारी नीती करे ,कोई सीट रिजर्व
वो भी लड़े चुनाव है,जो ना करे डिजर्व
                     ७
        वोट काटू प्रत्याशी
कौमी लीडर कर रही ,जाति  जिसे सपोर्ट
उस जाति को दे टिकिट,काटो उसके वोट
                      ८
         लालची प्रत्याशी
होते खड़े चुनाव में,लेकिन दे  जो माल
देकर उसे सपोर्ट ये ,कर लेंते  विड्राल 
                     ९
        पुश्तेनी प्रत्याशी
दादा फ्रीडम फाइटर ,नेता है माँ  बाप
पोते पोती ले रहे,देखो इसका  लाभ 
                      १०
               शहीद प्रत्याशी 
मोटी हस्ती सामने ,होगी हार नसीब
फेंके जाते जंग में ,होने वहाँ  शहीद
                       ११
             निर्दलीय प्रत्याशी
जिनको पार्टी ने दिया ,नहीं टिकिट इस बार
निर्दलीय  बन इलेक्शन , वो,लड़ने तैयार
                           १२
                   रईस प्रत्याशी        
   गाँव गाँव घूमो फिरो,अपना खून जलाओ
राज्य सभा का टिकिट तुम,कुछ करोड़ में पाओ                     
        
मदन मोहन बाहेती'घोटू'                  

No comments: