*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, April 19, 2014

घर की याद

         घर  की याद

जब काफी दिन एक जगह पर ,
                      रह कर मन है उचटा करता
परिवर्तन या कहो पर्यटन ,
                      करने को मन भटका करता
रोज रोज की दिनचर्या से,
                        थोड़े  दिन की छुट्टी लेकर
ख़ुशी ख़ुशी और बड़े चाव से ,
                         कहीं घूमने जाते  बाहर
पहले तो दो तीन दिवस तक,
                          अच्छा लगता है परिवर्तन
नयी जगह और नए लोग सब ,
                           नयी सभ्यता ,भाषा नूतन
कमरा  नया ,नित नया बिस्तर ,
                          नया नया नित खान पान है
रोज घूमना ,चलना फिरना,
                          चढ़ जाती तन पर थकान है
दिन भर  ये देखो ,वो देखो,
                           बड़ी दूरियां ,चलना दिन भर
कहीं खंडहर,कहीं महल है ,
                            झरने कहीं,कहीं पर सागर
मन प्रसन्न पर तन थक जाता ,
                            सैर करो जब दुनिया भर की
अच्छा तो लगता है लेकिन, 
                             याद  सताने लगती घर की
और ऊबने लगता मन है ,
                             रोज रोज होटल मे खाते
याद हमें आने लगते है ,
                            घरकी रोटी ,दाल ,परांठे
परिवर्तन अच्छा होता पर ,
                            जिस जीवन के हम है आदी
हमें वही अच्छा लगता है ,
                            और घर की है याद सताती

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

                       
    

No comments: