*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, March 15, 2014

बदलता मौसम

        बदलता मौसम

बदलते मौसम ने कितनी है बदल दी जिंदगी ,
       या उमर का ये असर है ,समझ ना पाते है हम
सर्दी के मौसममे जब भी सर्दी लगती है हमें ,
       लिपट कर के ,तेरी बाहों में समा जाते है हम
गर्मियों के दिनों में यूं बदलते हालात है,
        लिपटते है तुमसे जब हम ,झट झिटक देती हो तुम,
क्योंकि तुमको गर्मी लगती है हमारे प्यार मे ,
        चिपचिपे पन से बचाने,लिफ्ट ना देती हो  तुम
हम भी चुम्बक तुम भी चुम्बक पर 'अपोजिट पोल 'है
       हम में आकर्षण बहुत आता ,जब आती सर्दियाँ
गर्मियों में ,एक जैसे 'पोल'बन जाते है हम ,
        एक दूजे से छिटकते , वक़्त की  बेदर्दियां
जवानी जो सर्दियाँ है ,तो बुढ़ापा ग्रीष्म है,
         उमर के संग ,मौसमो सा ,बदलता  है आदमी  
सख्त से भी  सख्त दिल इंसान, बनता मोम है,
          प्यार से पुचकार भी लो,तो पिघलता  ,आदमी
लुभाती थी जो गरम साँसे तुम्हारे प्यार की ,
           लगती खर्राटे हमें है, आजकल ये हाल है
पहले तकिया था सिरहाने,फिर सिरहाना तुम बनी ,
            आजकल तकिया हमारे बीच की दीवार  है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

2 comments:

सु..मन(Suman Kapoor) said...

बहुत बढ़िया ..होली की शुभकामनायें

Ghotoo said...

aapko bhi holi ki shubhkamnaaye