*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, March 11, 2014

ये मेरे अब्बा कहते थे

     ये मेरे अब्बा कहते थे

लेडीज कालेज की बस को वो ,
                          तो हुस्न का डब्बाकहते थे
कोई ने थोडा झांक लिया ,
                               तो 'हाय रब्बा'कहते थे
लड़की उससे ही पटती है,
                                  हो जिसमे जज्बा कहते थे
मुश्किल से  अम्मा तेरी पटी ,
                                   ये मेरे अब्बा कहते  थे  
मिल दोस्त प्यार के बारे में ,
                                  सब  अपना तजरबा  कहते थे
कोई कहता खट्टा अचार ,
                                     तो कोई मुरब्बा कहते थे
 उल्फत में उन पर क्या गुजरी ,
                                      वो कई मरतबा  कहते थे
जिनको वो बुलबुल कहते थे,
                                    वो इनको कव्वा कहते थे
औरत में और आदमी में ,
                             है अंतर क्या क्या कहते थे
जिसमे दम वो आदम होता ,
                                हौवा  को हव्वा कहते थे

मदन मोहन बाहेती'घोटू'
 

No comments: