*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, February 20, 2014

चाकलेट

           

 


          चाकलेट
'चा' से चाव ,महोब्बत ,चाहत ,
                      एक दूजे संग ,अपनेपन की
'क'से कशिश,कामना मन में ,
                       जगती है जब मधुर मिलन की
'ले' से लेना देना चुम्बन,
                       ललक ,लालसा फिर लिपटन  की
'ट'से टशन और टकराहट ,
                        नयन,अधर की और फिर तन की
छू होठों से ,मुंह में जाकर ,
                         घुलती  स्वाद सदा है  देती    
चाकलेट ,प्रेमी जोड़ों का ,
                        मिलन मधुरता से भर देती 
                           
घोटू


No comments: