*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, February 16, 2014

माँ और मासी

       माँ और मासी

मेरी माँ और मेरी मासी
एक की उम्र बानवे,एक की अठ्ठासी
दोनों दूर दूर ,अलग और अकेली
एक दुसरे को फोन करती है डेली
उनकी बातचीत कुछ होती है ऐसी
और तुम कैसी हो और मैं कैसी
तबियत कैसी है ,ठीक है ना हालचाल
तेरे बहू बेटे ,रखते है ना ख्याल
मोह माया के जाल में फंसी  है
सबकी चिंताएं ,मन में बसी है  
इधर उधर की बातें करने के बाद
रोज होता है उनका संवाद
क्या करें बहन,मन नहीं लगता है
बड़ी ही मुश्किल से वक़्त कटता है
दिन भर क्या करें ,बैठे ठाले
इतनी उम्र हो गयी है,अब तो राम उठाले
क्या करें,मौत ही नहीं आती,एक दिन है मरना
पल भर का भरोसा नहीं ,पर कहती है,
अच्छा कल बात करना

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: